Sunday, February 25, 2024
No menu items!
spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
Homeअपराधअंकिता भंडारी के बहाने उत्तराखंड क्रांति दल ने भाजपा पर साधा निशाना!...

अंकिता भंडारी के बहाने उत्तराखंड क्रांति दल ने भाजपा पर साधा निशाना! प्रदेश में बाहरी अपराधियों को पनपा देने का लगाया आरोप

उत्तराखंड क्रांति दल ने बीजेपी सरकार पर अपराधियों को पद देने का आरोप लगाया है। साथ ही साफ लहजे में कहा कि बीजेपी राज्य से बाहर के लोगों को खास तवज्जो देती है। इसका एक उदाहरण अंकिता भंडारी हत्याकांड के मुख्य आरोपी पुलकित आर्य के पिता हैं। जिनकी सरकार में काफी पैठ है जबकि पार्टी के कार्यकर्ताओं को एड़ी घिसने के बाद भी पद नहीं मिल पाता है।

अंकिता भंडारी हत्याकांड के बहाने प्रदेश के एकमात्र क्षेत्रीय दल यूकेडी ने बीजेपी को आड़े हाथों लिया है। उत्तराखंड क्रांति दल ने बीजेपी पर अपराधियों को सरकार और संगठन में जगह देने का आरोप लगाया है। इतना ही नहीं उत्तराखंड बीजेपी पर प्रदेश से बाहर के लोगों को खास तवज्जो देने की भी बात कही है। उत्तराखंड में अंकिता भंडारी हत्याकांड मामले में भले ही बीजेपी नेता विनोद आर्य के बेटे पुलकित आर्य की गिरफ्तारी कर ली गई हो लेकिन इस पूरे प्रकरण के बाद हत्या के मुख्य आरोपी पुलकित आर्य के पिता विनोद आर्य की बीजेपी और संघ में पैठ को लेकर चर्चाएं जोरों पर रही है। अंदाजा लगाइए कि जिस बीजेपी सरकार में राज्य मंत्री बनने के लिए सालों साल से कार्यकर्ता काम कर रहे हैं उन्हें दरकिनार कर दिया जाता है जहां पार्टी के नेता और कार्यकर्ताओं को एड़िया घिसकर भी सफलता नहीं मिलती है। वहां पर आरोपी पुलकित आर्य के पिता विनोद आर्य बड़ी आसानी से सरकार में राज्य मंत्री पद लेने में कामयाब हो जाते हैं। न केवल निशंक के मुख्यमंत्री रहते हुए उन्होंने राज्य मंत्री का पद पाने में सफलता हासिल की बल्कि त्रिवेंद्र सिंह रावत से लेकर मौजूदा धामी सरकार तक में उनका वर्चस्व दिखाई दिया।

उत्तराखंड क्रांति दल के नेता शिव प्रसाद सेमवाल ने कहा कि पुष्कर सिंह धामी ने तो 2022 के विधानसभा चुनाव से ठीक पहले आचार संहिता लगने से पहले विनोद आर्य के बेटे को राज्यमंत्री बनाने के आदेश कर दिए। जाहिर है कि सत्ता में इस तरह दखल रखने वाले कुछ खास लोगों पर उत्तराखंड क्रांति दल के नेताओं का निशाना रहा। यूकेडी नेता शिव प्रसाद सेमवाल ने कहा कि सत्ता में बीजेपी राज्य मंत्री के तौर पर उत्तराखंड से बाहर के लोगों को खास तवज्जो देती है। इतना ही नहीं संगठन में भी बीजेपी ने उत्तराखंड से बाहर के लोगों को पदाधिकारी बनाया है। उन्होंने कहा कि ऐसा नेता जिसकी हर मुख्यमंत्री के समय सरकार में पैठ रही हो उसके बेटे को एसआईटी निष्पक्ष तरीके से जांच के बाद सलाखों के पीछे भेजेगी इस पर पार्टी को संदेह है और इसलिए लगातार पार्टी अंकिता हत्याकांड की सीबीआई जांच की मांग कर रही है।

सम्बंधित खबरें
- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

ताजा खबरें