Saturday, March 2, 2024
No menu items!
spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
Homeउत्तराखंडचमोली: नीति घाटी के मलारी में टूटा ग्लेशियर! बर्फ के बवंडर से...

चमोली: नीति घाटी के मलारी में टूटा ग्लेशियर! बर्फ के बवंडर से दहशत में लोग,केदारनाथ धाम में 6 फीट तक बर्फ

उत्तराखंड चमोली जिले में एवलॉन्च आया है। भू धंसाव प्रभावित जोशीमठ ब्लॉक से आगे ये एवलॉन्च आया है। भारत चीन सीमा स्थित मलारी गांव के पास कुंती नाले में हिमस्खलन का वीडियो आया सामने आया है। हिमस्खलन का वीडियो आज सुबह करीब साढे 7 बजे का बताया जा रहा है। उधर केदारनाथ धाम में जोरदार बर्फबारी के कारण 6 फीट तक बर्फ जम गई है।

नीति घाटी के मलारी में हिमखंड टूटने की खबर सामने आई है। अभी तक हिमखंड के टूटने से नुकसान की कोई खबर सामने नहीं आई है। भारत-चीन सीमा पर हिमखंड टूटने की खबर के बाद आपदा प्रबंधन विभाग अलर्ट मोड पर आ गया है। सोमवार को मलारी नाले में ग्लेशियर टूटने से चारों ओर बर्फ का धुआं उठा। देखते- देखते यहां अफरातफरी मच गई है। मलारी गांव से पहले ही यह हिमखंड टूटा है। मौसम विज्ञान केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक रोहित थपलियाल ने मौसम के बदले मिजाज के चलते उत्तरकाशी, चमोली, पिथौरागढ़, बागेश्वर में कहीं-कहीं भारी बारिश और बर्फबारी की संभावना जताई थी। इसे लेकर ऑरेंज अलर्ट भी जारी किया गया है। हिमालयी क्षेत्र चमोली जिले में एवलॉन्च की घटनाएं होती रहती हैं। आज भी यहां जोशीमठ से आगे हिमस्खलन की घटना हुई है। मलारी गांव के पास का जो वीडियो सामने आया है उसमें ग्लेशियर टूटकर कुंती नाले में समाता हुआ दिख रहा है। ये नाला भारत चीन सीमा को जोड़ने वाले बॉर्डर के सडक पर है। फिलहाल किसी तरह के नुकसान की कोई खबर नहीं। इस क्षेत्र में एवलॉन्च की यह कोई पहली घटना नहीं है। लेकिन गांव के पास पहली बार यह एवलॉन्च आया है। चमोली में मौसम सर्द बना हुआ है। जहां ऊंचाई वाले इलाकों में हिम्पात हो रहा है, वहीं निचले इलाकों में सुबह से ही बारिश जारी है। चमोली में बदरीनाथ धाम, हेमकुंड साहिब, औली, दिवालीखाल मंडल क्षेत्र में बर्फवारी शुरू हो गई है।

उधर रुद्रप्रयाग में एक बार फिर से मौसम खराब हो गया है। हिमालयी क्षेत्रों में देर रात से जहां बर्फबारी हो रही है। वहीं निचले क्षेत्रों में बारिश जारी है। बारिश और बर्फबारी के कारण आम जन जीवन प्रभावित हो गया है। लगातार हो रही बारिश के कारण ठंड भी अत्यधिक बढ़ गई है। वहींनिचले क्षेत्रों में इस सीजन की पहली बारिश हो रही है। इस बारिश को खेती के लिये शुभ माना जा रहा है। वही केदारनाथ धाम से लेकर अन्य हिमालयी क्षेत्रों में देर रात से बर्फबारी जारी है. वहीं, निचले क्षेत्रों में बारिश हो रही है। बारिश और बर्फबारी के चलते मौसम बेहद ठंडा हो गया है। केदारनाथ धाम में छह फीट तक बर्फ जम चुकी है। धाम में बर्फबारी के चलते पहले ही पुनर्निर्माण कार्य बंद हो गए थे. केदारपुरी की सुरक्षा में आईटीबीपी के जवान मुस्तैदी के साथ जुटे हुए हैं। इसके अलावा कुछ साधु संत भी धाम में रहकर बाबा की तपस्या कर रहे हैं।

सम्बंधित खबरें
- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

ताजा खबरें