Tuesday, May 28, 2024
No menu items!
Google search engine
Homeअपराधबेरोजगारों लाठीचार्ज मामले में कांग्रेस का हल्लाबोल छठवें दिन भी रहा जारी!...

बेरोजगारों लाठीचार्ज मामले में कांग्रेस का हल्लाबोल छठवें दिन भी रहा जारी! सचिवालय कूच के दौरान पुलिस से हुई नोकझोंक, महाशिवरात्रि पर शिवालयों पर जल चढ़ाने का ऐलान

उत्तराखंड में बेरोजगारों पर लाठीचार्ज का मामला ठंडा होता नहीं दिख रहा है। कांग्रेस मामले को मुद्दा बनाकर लगातार सरकार को घेर रही है। इसके अलावा भर्ती परीक्षाओं की सीबीआई जांच की मांग भी जोर शोर से उठा रही है। छठवें दिन कांग्रेसी सचिवालय की ओर गरजे लेकिन पुलिस ने उन्हें रोक लिया। जिस पर कांग्रेसियों और पुलिस के बीच नोकझोंक हुई। वहीं कांग्रेसियों ने महाशिवरात्रि के मौके पर सभी शिवालयों पर जल चढ़ाने का ऐलान किया।

बेरोजगार युवाओं पर लाठीचार्ज के विरोध और भर्ती परीक्षाओं की सीबीआई जांच की मांग को लेकर कांग्रेसियों का प्रदर्शन छठवें दिन भी जारी रहा। आज कांग्रेसियों ने सचिवालय कूच किया लेकिन पुलिस ने सुभाष रोड पर बैरिकेडिंग लगाकर रोक लिया। इस दौरान प्रदर्शनकारियों की पुलिस से तीखी नोकझोंक भी हुई। आगे बढ़ने से रोके जाने से नाराज कांग्रेसी सड़क पर ही धरने पर बैठ गए और धामी सरकार के खिलाफ नारेबाजी करने लगे। कुछ देर बाद पुलिस ने महिला कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष ज्योति रौतेला समेत अन्य कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया और पुलिस लाइन भेज दिया। आज कांग्रेसी सबसे पहले प्रदेश मुख्यालय में एकत्रित हुए और एक सभा का आयोजन किया। इसके बाद सभी पैदल मार्च निकालते हुए सचिवालय की ओर बढ़े। जहां पहले से ही मौजूद भारी पुलिस बल ने उन्हें रोक दिया। इस प्रदर्शन में कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष करण माहरा, पूर्व नेता प्रतिपक्ष और चकराता विधायक प्रीतम सिंह समेत तमाम नेता शामिल रहे। इस दौरान कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष करण माहरा ने बताया कि सरकार के तानाशाही रवैये को देखते हुए कांग्रेसजनों ने शिवरात्रि के दिन प्रदेश के सभी शिवालयों में जलाभिषेक किए जाने का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि तमाम कांग्रेसी मंदिरों में जाकर भोलेनाथ से सरकार की सद्बुद्धि को लेकर कामना करेंगे। ताकि अंकिता भंडारी हत्याकांड में शामिल तथाकथित वीआईपी का नाम जल्द से जल्द उजागर हो सके। इसके साथ ही कांग्रेसी कार्यकर्ता शिवरात्रि के दिन भगवान शिव से भर्ती परीक्षा घोटालों में शामिल सफेदपोश नेताओं के नाम सामने आने की प्रार्थना भी करेंगे। करन माहरा ने निशाना साधते हुए कहा कि प्रदेश की बीजेपी सरकार ऐसा नकल विरोधी कानून लेकर आई है, जिसमें नकल करने वाला अपराधी है, लेकिन नकल कराने वाला हाकम सिंह जैसा सफेदपोश नेता या फिर बीजेपी के मंडल अध्यक्ष जैसा व्यक्ति इसमें दोषी नहीं है। उन्होंने मुख्यमंत्री धामी को घेरते हुए अंधेर नगरी चौपट राजा का माहौल बताया। वहीं कांग्रेस का ये भी कहना है कि उत्तर प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री कल्याण सिंह और तत्कालीन शिक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के कार्यकाल में नकल अध्यादेश कानून लाया गया था, लेकिन जिसका आज अता पता नहीं है। ऐसे में नकल रोकने के लिए यदि उत्तराखंड सरकार इस कानून का सही तरीके से पालन कर लेती तो आज यह नौबत नहीं आती।

सम्बंधित खबरें
- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

ताजा खबरें