Sunday, June 23, 2024
No menu items!
Google search engine
Homeउत्तराखंडअपराध का गढ़ बन रहा उत्तराखंड!आंकड़े कर रहे तस्दीक,पुलिस भी तोड़ रही...

अपराध का गढ़ बन रहा उत्तराखंड!आंकड़े कर रहे तस्दीक,पुलिस भी तोड़ रही अपराधियों की कमर

उत्तराखंड कभी शांत प्रदेश के नाम से जाना जाता था लेकिन अब उत्तराखंड क्राइम का गढ़ बनता जा रहा है। ऐसा हम नहीं बल्कि पुलिस के आकंड़े खुद ही साबित करते हैं। आलम ये है कि प्रदेश में 1 जनवरी 2021 से अब तक 2320 मुकदमे दर्ज हुए हैं। जिसके तहत 4222 आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की जा चुकी है।

उत्तराखंड में अब क्राइम तेजी से बढ़ रहा है। आए दिन हत्या, लूट, रेप, चोरी आदि की घटनाएं सामने आ रही है। इसकी तस्दीक आंकड़े कर रहे हैं। आंकड़े बताते हैं कि एक अगस्त से लेकर अब तक 291 आरोपियों की गिरफ्तारी की जा चुकी है। जबकि एक जनवरी 2021 से लेकर अब तक 2292 आरोपियों को सलाखों के पीछे भेजा जा चुका है। वहीं तीन सालों में 312 आरोपियों पर गैंगस्टर एक्ट लगाया जा चुका है। दरअसल उत्तराखंड पुलिस की ओर से अपराधियों और माफियाओं पर अंकुश लगाने के लिए बीती 1 अगस्त से 2 महीने का विशेष अभियान ऑपरेशन प्रहार शुरू किया। इस ऑपरेशन प्रहार अभियान के तहत अब तक एक महीने के भीतर 101 मुकदमे पंजीकृत किए गए। जिसके तहत 219 अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई की गई। वहीं उत्तराखंड पुलिस ने 1 जनवरी 2021 से अपराधियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की है। जिसमें 2320 मुकदमे पंजीकृत किए। जिसके तहत 4222 आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की गई. जबकि आपराधिक घटनाओं में शामिल 2292 आरोपियों को गिरफ्तार कर काल कोठरी में भेजा गया। उत्तराखंड डीजीपी अशोक कुमार ने बताया कि बीते 3 सालों में पुलिस ने अपराधियों के खिलाफ विशेष अभियान चलाया। जिसके तहत 312 आरोपियों पर गैंगस्टर एक्ट लगाया गया. जिसमें 175 करोड़ रुपए से ज्यादा कीमत की संपत्ति गैंगस्टर एक्ट के तहत अधिग्रहित की गई। उन्होंने कहा कि अपराध के खिलाफ पुलिस की कार्रवाई जारी है।

जानकारी और आकड़ो के अनुसार एक जनवरी 2021 से लेकर अब तक पुलिस ने कई बड़े कार्रवाई की है। जिसमे भूमि और भवन के नाम पर धोखाधड़ी करने वाले 1471 भू माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई कर शिकंजा कसा गया। जिसके तहत 74 भू माफियाओं पर गैंगस्टर एक्ट लगाया गया है। वही गंभीर अपराधों जैसे रंगदारी और उद्यापन के 183 मामलों में पुलिस कार्रवाई की गई। जिसमें से 30 आरोपियों के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई की गई। इस के बाद सरकारी नौकरी लगाने के नाम पर ठगी के 314 मामले सामने आए। जबकि किट्टी-चिटफंड-पोंजी स्कीम के नाम पर धोखाधड़ी करने वालों के खिलाफ 302 मामलों में पुलिस कार्रवाई कर चुकी है। परीक्षा अधिनियम के तहत 139 नकल माफियाओं पर कार्रवाई की गई है। जिसके तहत 74 आरोपियों पर गैंगस्टर एक्ट लगाया गया। वहीं फर्जी डिग्री और शैक्षिक प्रमाण पत्र में 115 आरोपियों पर कार्रवाई की गई। विदेश भेजने के नाम पर ठगी करने वाले 111 आरोपियों पर पुलिस ने कार्रवाई की। फर्जी लोन देने के नाम पर ठगी करने वाले 100 आरोपियों को पुलिस ने दबोचा जिन्हें पुलिस ने हवालात पहुंचाया।सरकारी सेवक यानी नौकरी के नाम पर धोखाधड़ी करने वाले 31 आरोपियों के खिलाफ पुलिस ने कार्रवाई की। सरकारी सेवक गबन के नाम पर 51 आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की गई। पेशेवर अपराधियों की ओर से हत्या और हत्या का प्रयास करने पर 37 आरोपियों को सलाखों के पीछे भेजा गया। लूट और डकैती करने वाले 1257 आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की गई। फिरौती के लिए अपहरण करने और धमकी देने वाले 32 आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई पुलिस ने की। रेप करने वाले 47 आरोपियों के हाथों में पुलिस ने हथकड़ी पहनाई और सलाखों के पीछे पहुंचाया।वहीं दवाइयों में मिलावट करने वाले 32 आरोपियों के खिलाफ भी पुलिस ने कार्रवाई की।

सम्बंधित खबरें
- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

ताजा खबरें