Tuesday, April 23, 2024
No menu items!
Google search engine
Homeउत्तराखंडकार्तिक हत्याकांड का पुलिस ने किया खुलासा! विश्वपात्र कर्मचारी ही निकले हत्यारे,...

कार्तिक हत्याकांड का पुलिस ने किया खुलासा! विश्वपात्र कर्मचारी ही निकले हत्यारे, फिरौती मांगने से पहले की हत्या

हरिद्वार में पैथोलॉजिस्ट कार्तिक हत्याकांड का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। कार्तिक का अपहरण उसकी की लैब के दो कर्मचारियों ने किया था जिन पर कार्तिक सबसे ज्यादा विश्वास करता था। उन्होंने ने ही अपहरण के बाद कार्तिक की हत्या की। आरोपियों की मकसद कार्तिक के परिजनों से 70 लाख रुपए की फिरौती मांगना था।

पुलिस ने पैथोलॉजिस्ट की हत्या के 12 घंटे के अंदर ही दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। पैथोलॉजिस्ट का अपहरण और हत्या करने वाला कोई और नहीं बल्कि उसकी पैथोलॉजिस्ट लैब के दो कर्मचारी थे। उन्होंने अपहरण के बाद पैथोलॉजिस्ट के परिवार से 70 लाख रुपए की फिरौती मांगी थी। लेकिन जब 70 लाख रुपए की फिरौती नहीं मिली तो उन्होंने पैथोलॉजिस्ट की हत्या कर दी. क्योंकि उन्हे ये भी डर था कि यदि पैथोलॉजिस्ट को छोड़ दिया तो उनका सच सबसे सामने आ जाएगा। हरिद्वार एसएसपी अजय सिंह ने बताया कि 13 दिसंबर सुबह शिव मंदिर चौक बहादराबाद निवासी प्रेमचंद थाने पहुंचे थे 12 दिसंबर को उनका 22 साल का बेटा कार्तिक अपनी पैथोलॉजी लैब के लिए निकला था। कार्तिक न तो लैब से अभीतक वापस लौटा है और न ही वो फोन उठा रहा है।

बहादराबाद थाना पुलिस ने देरी किए बिना सबसे पहले कार्तिक की गुमशुदगी दर्ज की।पुलिस मामले की जांच कर ही रही थी कि तभी दोपहर में कार्तिक के फोन से उसकी माता के फोन पर फोन आया. फोन करने वाले व्यक्ति ने कार्तिक को छोड़ने की एवज में 70 लाख रुपए की फिरौती मांगी कार्तिक के अपहरण की जानकारी मिलते ही पुलिस भी एक्टिव हो गई। एसएसपी अजय सिंह ने खुद अपने हाथों में कमान संभाली.पुलिस ने छानबीन शुरू की तो शुक्रवार रात को पुलिस को कार्तिक के बारे में सुराग मिली और पता चला कि कार्तिक का अपहरण किसी और ने नहीं, बल्कि उसकी लैब में काम करने वाले दो कर्मचारियों ने ही किया है। पुलिस ने दोनों को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो उन्होंने सारा सच उगल दिया. हालांकि तब तक देर हो चुकी थी, क्योंकि उन्होंने पहले ही कार्तिक को मार दिया था। आरोपियों की निशानदेही पर पुलिस ने दादूपुर इलाके में किराए के घर से कार्तिक का शव बरामद किया पुलिस ने बताया कि दोनों आरोपियों का प्लान फिरौती की रकम मिलने के बाद कार्तिक के शव को घर के पास ही नाले में फेंकने का था। ताकि कार्तिक की मौत का राज कभी बाहर ही न सके। आरोपियों को शक था कि कार्तिक के परिवार के पास काफी पैसा है उन्हें उम्मीद था कि कार्तिक के अपहरण के बाद उन्हें अच्छा खासा पैसा मिल जाएगा। कार्तिक ने पिता ने कुछ दिनों पहले ही जमीन बेची थी। वारदातों को अंजाम देने वाले दोनों आरोपी आठ और तीन महीने से कार्तिक की लैब में काम कर रहे थे। कार्तिक दोनों पर काफी विश्वास करता था। यही विश्वास उसकी जान पर भारी पड़ गया। आरोपियों ने फिरौती मांगने से पहले ही कार्तिक की हत्या कर दी थी और उसका शव बोरे में बांधकर रख दिया था। ताकी मौका मिलने पर शव को ठिकाने लगाया जा सके। कार्तिक के गायब होने पर शक दोनों कर्मचारियों पर ना जाए इसलिए शुक्रवार सुबह से ही आरोपी लगातार परिवार वालों के साथ दिख रहे थे। इसी दौरान कार्तिक के फोन से भी उन्होंने फिरौती के लिए परिवार वालों को फोन किया था पुलिस के अनुसार आरोपी परिजनों को भी फिरौती देने पर राजी करना चाहते थे।

सम्बंधित खबरें
- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

ताजा खबरें