Tuesday, June 18, 2024
No menu items!
Google search engine
Homeप्रशासनडॉक्टर निधि इस्तीफे मामले पर निर्दलीय विधायक उमेश कुमार ने दिया बड़ा...

डॉक्टर निधि इस्तीफे मामले पर निर्दलीय विधायक उमेश कुमार ने दिया बड़ा बयान, स्वास्थ्य सचिव को बताया पहाड़ विरोधी

खानपुर से निर्दलीय विधायक उमेश कुमार ने डॉ निधि इस्तीफ़े मामले पर डॉक्टर का समर्थन किया है स्वास्थ्य सचिव पंकज पांडेय पर जमकर हमला भी बोला है।

अपने सोशल मीडिया पर लिखते हुए उन्होंने कहा,”मैं यूँ ही नही कहता हूँ कि उत्तराखण्ड के कुछ अधिकारी पहाड़ विरोधी हैं। दून मेडिकल कॉलेज की डॉक्टर निधि के साथ स्वास्थ्य सचिव पंकज पांडेय ने जो किया वो कतई भी माफी लायक नहीं है।”

 साथ ही उन्होंने यह भी चेतावनी दी कि अगर स्वास्थ्य सचिव ने माफी नहीं मांगी तो वह उनके ही दफ्तर के बाहर आंदोलन शुरू कर देंगे।

स्वास्थ्य मंत्री धनसिंह रावत से भी आग्रह करते हुए उन्होंने लिखा,”प्रदेश के चिकित्सा स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर धनसिंह रावत जी से भी कहूँगा कि ऐसे अफसरों पर सख्त कार्यवाही होनी चाहिए जो आपके विभाग की छवि धूमिल करने में कोई कोर कसर नही छोड़ रहे हैं।”

मालूम हो कि दून मेडिकल कॉलेज में कार्यरत डॉ निधि जब ओपीडी में मरीजों की जांच पड़ताल कर रही थी तब उन्हें फरमान आया कि स्वास्थ्य सचिव की पत्नी बीमार है और उन्हें तुरंत देखने जाना है। डॉक्टर निधि, दो मेडिकल स्टाफ को लेकर सचिव के घर पहुंची लेकिन बीपी नापने की मशीन गाड़ी में ही भूल गई जिसकी वजह से सचिव की पत्नी उन पर बिफर गयीं और स्वास्थ्य सचिव से फोन पर बात करते हुए डॉक्टर निधि को अभद्र शब्द कह डालें। 

अभद्र शब्द कहने पर डॉ निधि ने विरोध जताया और वहां से वापस दून मेडिकल कॉलेज चलें गई। बाद में जब अस्पताल प्रशासन ने डॉक्टर निधि को स्वास्थ्य सचिव की पत्नी से माफी मांगने के लिए कहा तो डॉक्टर ने मना कर दिया और कॉलेज में पढ़ाने चली गई। इसके बाद फरमान आया कि डॉक्टर का तबादला अल्मोड़ा हो गया है लेकिन डॉ निधि ने खुद इस्तीफा दे डाला और इस्तीफे की प्रतियां मुख्यमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री को दे दी। 

सोशल मीडिया में यह मामला आग की तरह फैला है और खबरों के मुताबिक अब मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने भी जांच के आदेश दे डाले हैं

सम्बंधित खबरें
- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

ताजा खबरें